कीमती धातुएँ

6 परिसंपत्ति वर्ग - 16 व्यापार मंच - 1000 से अधिक वित्तीय उपकरण।
XM में फोरेक्स, अकेले स्टॉक, जिंस, कीमती धातुओं, ऊर्जाओं और इक्विटी सूचकांकों में व्यापार करें।

कीमती धातुएँ – स्प्रेड / स्थितियाँ

स्पॉट धातुएँ उपकरण

मुद्रा चिह्न मुख्य जानकारी दस्तावेज न्यूनतम कीमत
उतार-चढ़ाव
इसके जितने कम
स्प्रेड***
औसत स्प्रेड*** लॉन्ग स्वैप मूल्य
(अंक)**
शॉट स्वैप मूल्य
(अंक)**
1 लॉट का मान लिमिट और स्टॉप लेवेल*
GOLD 0.01 0.25 0.35 -10.32 4.91 100 oz 0
SILVER 0.001 0.03 0.035 -1.75 -0.05 5000 oz 0
मुद्रा चिह्न मुख्य जानकारी दस्तावेज न्यूनतम कीमत
उतार-चढ़ाव
इसके जितने कम
स्प्रेड***
औसत स्प्रेड*** लॉन्ग स्वैप मूल्य
(अंक)**
शॉट स्वैप मूल्य
(अंक)**
1 लॉट का मान लिमिट और स्टॉप लेवेल*
GOLDmicro 0.01 0.25 0.35 -10.32 4.91 1 oz 0
SILVERmicro 0.001 0.03 0.035 -1.75 -0.05 50 oz 0
मुद्रा चिह्न मुख्य जानकारी दस्तावेज न्यूनतम कीमत
उतार-चढ़ाव
औसत स्प्रेड*** लॉन्ग स्वैप मूल्य
(अंक)**
शॉट स्वैप मूल्य
(अंक)**
1 लॉट का मान लिमिट और स्टॉप लेवेल*
SILVER. 0.001 0.02 -1.75 -0.05 5000 oz 0
GOLD. 0.01 0.2 -10.32 4.91 100 oz 0

सोने और चाँदी के लिए मार्जिन आवश्यकता इस तरह परिकलित की जाती है: लॉट * अनुबंध का आमाप * बाजार कीमत * मार्जिन प्रतिशत।

* वर्तमान बाजार कीमत पर लंबित ऑर्डर प्लेस करने के लिए न्यूनतम स्तर।

** यदि आप अगने ट्रेडिंग दिवस के लिए किसी पोजिशन को खुला छोड़ेंगे, तो आप उस मुद्रा-युग्म की दो मुद्राओं के ब्याज दर में जो अंतर है, उसके आधार पर परिकलित राशि चुकाएँगे अथवा पाएँगे। इस लेन-देन को "स्वैप" कहा जाता है। ट्रेडिंग टर्मिनल में "स्वैप" को अपने आप ही जमा मुद्रा में बदल दिया जाता है। यह लेन-देन 00.00 (UTC+2 समय क्षेत्र, कृपया ध्यान में रखें कि DST लागू हो सकता है) को संपन्न होता है और इसमें कई मिनट का समय लग सकता है। बुधवार से गुरुवार तक स्वैप तीन दिनों के लिए लिया जाता है।

*** यहाँ दर्शाए गए औसत स्प्रेडों का परिकलन दिन भर होता रहता है। बाजार की सामान्य स्थितियों में ये अक्सर अधिक संकीर्ण रहते हैं। लेकिन महत्वपूर्ण खबरों की घोषणा के बाद, राजनीतिक अस्थिरता के दौरान, बाजार में अस्थिरता लाने वाली अप्रत्याशित घटनाओं के बाद या व्यावसायिक दिन की समाप्ति पर और सप्ताहांतों के निकट जब तरलता कम होती है, तब स्प्रेड अधिक विस्तृत हो सकते हैं। जब आप हमारी कंपनी के साथ व्यापार करते हैं, तब Trading Point आपके लिए अन्य पक्ष की भूमिका निभाता है। आपके व्यापारों को मैच किया जाता है और पूर्वनिश्चित सीमाओं से अधिक के एक्सपोशरों को हमारे तरलता प्रदाताओं के साथ बाजार के वर्तमान स्प्रेड पर हेज किया जाता है। लेकिन, जब बाजार में बहुत उतार-चढ़ाव हो रहे हों और तरलता की स्थिति तंग हो, तब हमारे तरलता प्रदाता सामान्य से अधिक बड़े स्प्रेड कोट करते हैं। ऐसे समयों में Trading Point को मजबूर होकर स्प्रेड में जो वृद्धि हुई है, उसके कुछ हिस्से को ग्राहकों पर डालना पड़ता है।

सोना और चाँदी व्यापार के घंटे
(UTC+2 समय क्षेत्र, कृपया ध्यान में रखें कि DST लागू हो सकता है)

सोमवार – गुरुवार: 01:05 – 23:55
शुक्रवार: 01:05 – 23:50

अन्य धातुएँ

मुद्रा चिह्न मुख्य जानकारी दस्तावेज विवरण न्यूनतम कीमत
उतार-चढ़ाव
कीमत में न्यूनतम उतार-चढ़ाव का मूल्य इसके जितने कम
स्प्रेड
1 लॉट का मान न्यूनतम/अधिकतम व्यापार आमाप मार्जिन प्रतिशत लिमिट और स्टॉप लेवेल*
PALL Palladium 0.01000 USD 0.1 10.01 10 Troy ounces 1/45 4.5 % 0
PLAT Platinum 0.01000 USD 0.1 4.25 10 Troy ounces 1/100 4.5 % 0

* वर्तमान बाजार कीमत पर लंबित ऑर्डर प्लेस करने के लिए न्यूनतम स्तर।

CFD के लिए मार्जिन आवश्यकता का परिकलन इस तरह होता है: लॉट * अनुबंध का साइज * ओपनिंग प्राइस * मार्जिन प्रतिशत, और वह आपके व्यापार खाते के लीवरेज पर आधारित नहीं है।

जब आप CFD पर पोजिशनों को हेज करते हैं और आपका मार्जिन स्तर 100% से अधिक हो, तब मार्जिन हमेशा 50% होता है।

कृपया ध्यान में रखें कि हमारी कंपनी समाप्ति तारीख के साथ आने वाले वित्तीय उपकरणों के लिए नए अनुबंधों में ऑटोमैटिक रोलोवर की सुविधा नहीं प्रदान करती है।

मुद्रा चिह्न विवरण सर्वर समय सप्ताह का दिन सोमवार खुला है शुक्रवार बंद है
PALL Palladium GMT +3 01:05-23:55 01:05 23:10
PLAT Platinum GMT +3 01:05-23:55 01:05 23:10

कृपया ध्यान में रखें कि हमारी कंपनी समाप्ति तारीख के साथ आने वाले वित्तीय उपकरणों के लिए नए अनुबंधों में ऑटोमैटिक रोलोवर की सुविधा नहीं प्रदान करती है।

विवरण चिह्न उपलब्ध अनुबंध खोलने की तारीख* केवल क्लोस तारीख* समाप्ति तारीख* अनुबंध महीने अनुबंधों की समाप्तियाँ**
Palladium PALL Sep 2022-05-25 2022-08-30 2022-08-31 MAR, JUN, SEP, DEC अनुबंधों की समाप्तियाँ**
Platinum PLAT Oct 2022-06-23 2022-09-28 2022-09-29 JAN, APR, JUL, OCT अनुबंधों की समाप्तियाँ**

*केवल क्लोस और समाप्ति तारीखें वास्तविक तारीख के नजदीक पहुँचने पर बदल सकती है। यह हमारे लिक्विडिटी प्रदाताओं द्वारा वायदा अनुबंध रोलिंग के संबंध में तय किए गए नियमों के कारण है, तथा यह सक्रिय अनुबंध और समाप्त होने के क्रम में जो अगला अनुबंध है, इन दोनों की ही लिक्विडिटी पर आधारित है। नए वित्तीय उपकरण के खुलने की तारीख के तुरंत बाद का व्यावसायिक दिन पिछले अनुबंध की समाप्ति तारीख मानी जाएगी।

**समाप्त होने की तारीख हर महीने के लिए अलग-अलग है और वह लिक्विडिटी प्रदाता के रोलिंग शेड्यूलों और अनुबंधों की लिक्विडिटी पर आधारित है।

कृपया ध्यान में रखें कि हमारी कंपनी समाप्ति तारीख के साथ आने वाले वित्तीय उपकरणों के लिए नए अनुबंधों में ऑटोमैटिक रोलोवर की सुविधा नहीं प्रदान करती है।

सोने में व्यापार और कीमती धातुओं का बाजार

सोने में व्यापार और अन्य कीमती धातुओं, तथा कच्चा तेल, ताँबा या पेट्रोलियम, ये खनन करके निकाले जाने वाले जिंस (हार्ड कोमोडिटीज) हैं, जो जिंस बाजार में एक बड़ी भूमिका निभाते हैं और ये अनुबंध-आधारित व्यापार करने योग्य वस्तुएँ हैं। कीमती धातुओं पर आधारित अनुबंध वायदा, स्पॉच कीमतों, फॉर्वर्ड और ऑप्शन अनुबंध, वगैरह हो सकते हैं।

जो बिचौलिया वायदा अनुबंधों के मोल-तोल को सक्षम करता है, वह वायदा एक्सचेंज है, या जिंस बाजार है। विश्व भर के निवेशक करीब 50 जिंस बाजारों में प्रवेश पा सकते हैं। सोना, चाँदी, प्लैटिनम और पलेडियम प्रमुख व्यापार-योग्य परिसंपत्तियाँ हैं क्योंकि इनका आर्थिक मूल्य और टिकाऊपन उच्च स्तर का होता है। कीमती धातुओं के लिए विश्व का सबसे बड़ा बाजार एशिया है (चीन, भारत और सिंगापुर इन जिंसों के सबसे बड़े उपभोक्ता हैं)। जिंस बाजार में यूरोपीय और अमेरिकी निगम प्रमुख भूमिका निभाते हैं। कीमती धातुओं की सबसे बड़ी कंपनियाँ कनाडा और जर्मनी में स्थित हैं।

वायदा विनिमय बाजार, जहाँ मुद्राओं और स्टॉक सूचकांकों के अलावा सोना और अन्य कीमती धातुओं का भी धड़ल्ले से व्यापार होता है, सप्ताहांत को छोड़कर दिन में 24 घंटे उपलब्ध है। सामान्यतः, कीमती धातुएँ खरीदने के दो मुख्य तरीके हैं: ऑन द स्पॉट अनुबंध और वायदा अनुबंध। ऑन द स्पॉट अनुबंध में इन जिंसों की भौतिक खरीद-फरोक्त होती है और भुगतान और डेलिवरी ऑन द स्पॉट तारीख को (सामान्यतः व्यापार की तारीख के दो व्यावसायिक दिन बाद) की जाती है। वायदा व्यापार मानकीकृत अनुबंध होते हैं, जिनमें दो पक्ष एक विशिष्ट परिमाण और गुणवत्ता में कीमती धातुओं को एक परस्पर तय की गई कीमत (जिसे वायदा कीमत कहते हैं) पर खरीदने या बेचने के लिए सहमत होते हैं और डेलिवरी और भुगतान भविष्य की किसी तारीख (जिसे डेलिवरी तारीख कहते हैं) को किया जाता है। वायदों की खरीद और फरोक्त ऑनलाइन व्यापार द्वरा व्यापार किए जा रहे जिंस पर वास्तविक भौतिक स्वामित्व के बिना होता है।

सोना और कीमती धातुओं में व्यापार

सबसे ज्यादा ट्रेड होने वाली कीमती धातुएँ सोना, प्लैटिनम, पलेडियम और चाँदी हैं। इन जिंसों का उच्च ट्रेडिंग वॉल्यूम इनके आंतरिक मूल्य के कारण है, जो आर्थिक परिस्थितियाँ जो भी रहने पर अविचलित रहता है। हाल के दशकों में, लंबे समय के निवेश के रूप में कीमती धातुओं की ऑनलाइन खरीद और भौतिकी स्वामित्व के प्रति रुझान बहुत बढ़ा है। अल्प समय के लिए निवेश करने में रुचि रखने वालों के लिए भी कीमती धातुओं में व्यापार काफी अवसर प्रदान करता है क्योंकि डेरिवेटिव और एक्सचेंज पर ट्रेड होने वाले अनुबंध कम पूँजी की माँग करते हैं और वे इन जिंसों की कीमतों में होने वाले मूवमेंट पर पोजिशन लेने का एक अधिक सरल तरीका है।

उदाहरण के लिए, उत्पादन और उपभोग के स्तरों पर निर्भर करने वाले अधिकतर अन्य जिंसों के विपरीत, सोने के व्यापर की कीमतें इन कारकों पर निर्भर नहीं करती हैं: वे राजनीतिक परिवर्तनों की धड़कनों के अनुसार चलती हैं और इसलिए अनिश्चितता के समय में सोना अन्य बाजारों के विरुद्ध हेज करने के लिए एक अच्छा साधन है। सोने के साथ ही, प्लेटिनम, पलेडियम और चाँदी भी बहुमूल्य परिसंपत्तियाँ हैं और इनमें व्यापार उन निवेशकों द्वारा किया जाता है जो मुद्रागत अनिश्चितता के समय में इन्हें मूल्य के भंडार के रूप में देखते हैं।

कीमतों में उतार-चढ़ाव को कई कारक प्रभावित करते हैं और ये धातु बाजार में अस्थिरता पैदा कर सकते हैं। सबसे महत्वपूर्ण कारकों में एक है वैश्विक वित्तीय संस्थाएँ, जिनके निवेश सट्टे के रूप में होते हैं और ये कीमतों में उछाल या गिरावट ला सकते हैं। एक अन्य कारक जो बाजार को प्रभावित करता है, वह है अंतिम-उपयोगकर्ता के रुझान, विशेषतः जेवर खरीदने वाले लोग: जेवर की माँग कीमती धातुओं की कीमतों में उछाल लाती है। अर्थव्यवस्था के कारण भी बाजार कीमतों पर प्रभाव पड़ता है। यदि विश्व की अर्थव्यवस्था का निष्पादन अच्छा हो, तो समृद्धि के स्तर का सीधा संबंध सोने और अन्य कीमती धातुओं से बने जेवरों की माँग से रहता है: जब निवेशक अधिक जोखिम वाले निवेश विकल्प तलाशने लगते हैं, तब कुछ कीमती धातुओं की कीमतें थोड़ी गिर जाती हैं, जबकि कुछ अन्य की कीमतों में उछाल आता है। और अंत में, कीमती धातुओं के अलावा अन्य वित्तीय परिसंपत्तियों की माँग में हुए परिवर्तन भी कीमत के उतार-चढ़ाव में योगदान करते हैं।

सोने में व्यापार और कीमती धातुओं का एक ऐतिहासिक सिंहावलोकन

कीमती धातुएँ, विशेषकर सोना, हमेशा समृद्धि के प्रतीक रही हैं। प्रागैतिहासिक काल से ही, जब अदला-बदली के लिए सोने का उपयोग होता था, चाहे सिक्कों के रूप में, या निश्चित शुद्धता और भार वाली ईंटों के रूप में, सोना एक मूल्यवान और अत्यधिक चाही जाने वाली परिसंपत्ति रही है। सर्वप्रथम सोने के सिक्कों की ढलाई ईसा पूर्व 600 को हुई थी और मुद्रा विनिमय में उसका उपयोग 1930 के दशक तक रहा (गोल्ड स्टैंडर्ड)। चूँकि सोने में उच्च स्तर का विद्युत चालकत्व गुण और आघातवर्धनीयता गुण है, तथा सोना अन्य तत्वों के साथ अभिक्रिया नहीं करता है, इसलिए उसका उपयोग कई उद्योगों में होता है, जैसे जेवर उद्योग, वाणिज्यिक रसायनशास्त्र, इलेक्ट्रॉनिक्स और चिकित्सा। एक जिंस मुद्रा के रूप में सोने का कागजी मुद्रा द्वारा प्रतिस्थापन 1976 में ही हो सका, लेकिन आज भी सोना एक अत्यंत ठोस निवेश परिसंपत्ति के रूप में बना हुआ है।

सोने के साथ-साथ, 4 हजार से अधिक वर्षों से चाँदी भी मुद्रा विनिमय के लिए उपयोग में रहा है और चाँदी का मानक 19वीं सदी तक कायम रहा। चूँकि चाँदी के लिए औद्योगिक, वाणिज्यिक और उपभोक्ता माँग काफी अधिक है, वह निवेश हेतु एक अच्छी परिसंपत्ति है। चाँदी वायदा जैसे डेरिवेटिव का विश्व के कई एक्चेंज बाजारों में व्यापार होता है। ऑनलाइन व्यापार के आने से, चाँदी के विनिमय-व्यापार उत्पाददों के जरिए चाँदी की कीमतों को जानना और लंबी अवधि के लिए चाँदी में निवेश करना निवेशकों के लिए सरल हो गया है।

सोना-चाँदी में व्यापार की तुलना में, जो प्राचीन सभ्यताओं के समय से ही निवेश परिसंपत्तियों के रूप में विद्यमान रहा है, वित्तीय क्षेत्र में प्लेटिनम और पलेडियम का इतिहास अपेक्षाकृत छोटा है। लेकिन, चूँकि इनके अत्यंत विरल होने से तथा खानों से इनके उत्पादन की मात्रा को देखते हुए, तथा इनके कई उद्योगों में उपयोग को देखते हुए, कभी-कभी ये सोने से भी अधिक भाव पर बिकते हैं। सोने से 10 गुना अधिक विरल प्लेटिनम को समृद्धि के साथ जोड़कर देखा जाता है, और सफेद सोना-प्लेटिनम मिश्र-धातुओं का उपयोग प्राक्-कोलंबियन सभ्यता से ही हो रहा है। यूरोप में प्लेटिनम का सर्वप्रथम उल्लेख 16वीं सदी में हुआ था, और 18वीं सदी से जेवरों में, मोटर और रसायन उद्योग में, दंत-चिकित्सा में और चिकित्सा में भी उसका उपयोग हो रहा है।

प्लेटिनम के ही समान, पलेडियम भी प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक आवश्यक भूमिका निभाता है। 19वीं सदी के यूरोप में इसकी खोज से, विश्व भर में पलेडियम की माँग बहुत बढ़ गई है, विशेषकर मोटरकार उद्योग में, लेकिन चिकित्सा, विद्युत उद्योग, जेवर और एक निवेश परिसंपत्ति के रूप में इसका व्यापक उपयोग होता है। आपूर्ति और माँग (यानी बाजार में कीमत निर्धारण) के कारण, कभी-कभी स्थिरता के लंबे दौरों में प्लेटिनम और पलेडियम की कीमत सोने के बराबार, या उससे भी अधिक, हो सकती है, जबकि आर्थिक अस्थिरता के दौर में उनकी कीमत सोने से पिछड़ सकती है, जिससे निवेश की दृष्टि से सोना इनकी तुलना में अथिक स्थिर धातु है।

आज सोने और कीमती धातुओं में व्यापार

खनन करके प्राप्त होने वाले जिंसों में (हार्ड कोमोडिटि) कीमती धातु व्यापार करने की दृष्टि से 1970 के दशक से बहुत लोकप्रिय रहे हैं। मुद्रा-स्फीति या आर्थिक/राजनीतिक अनिश्चितता के समय में मुद्रा विनिमय (फोरेक्स) व्यापार के अलावा, सोने और अन्य कीमती धातुओं में लंबे समय के लिए निवेश करना विश्व भर में पोर्टफोलियो जोखिम प्रबंधन का एक लोकप्रिय तरीका है।

वायदा अनुबंधों को डेरिवेटिव अनुबंध भी कहते हैं, जिसका मतलब है कि उनका मूल्य उनके आधारभूत परिसंपत्ति के निष्पादन से व्युत्पन्न होता है। कीमती धातुओं में वायदा निवेश करने का मुख्य उद्देश्य जोखिम को कम करना है: चूँकि इनमें खरीदने और बेचने वाले में वायदा लेन-देनों के तहत अग्रिम में कीमतों या दरों को तय करने की क्षमता होती है, वे दोनों सुनिश्चित कर सकते हैं कि हानियों को अत्यधिक बढ़ाने वाले कीमतों में उतार-चढ़ाव से अपने आपको बचा सकते हैं।

कीमती धातुओं का व्यापार दोनों दिशाओं में हो सकता है: यदि अनुमान है कि बाजार ऊपर की ओर अग्रसर होगा (बाजार में तेजी या बुलिश ट्रेंड) तब वायादा अनुबंध खरीदकर बाजार में प्रवेश किया जा सकता है (लंबा जाना) और उसे बेचकर बाजार से निकला जा सकता है; जबकि, यदि बाजार में गिरवाट आने की आशंका हो (मंदी या बेयरिश ट्रेंड), तो वायदा अनुबंध को बेचकर (शॉर्ट जाकर) व्यापर में उतरा जा सकता है और एक अनुबंध खरीदकर बाजार से निकला जा सकता है। अनेक वायदा अनुबंधों में व्यापार करने की संभावना भी है, जिसमें कई बार बाजार में प्रवेश किया जाता है और बाजार से कई बार निकला जाता है, यानी, कई अलग-अलग कीमतों पर अनुबंध करना और एक की कीमत पर बाजार से निकल जाना, या इसका विपरीत। दोनों दिशाओं में व्यापार करने की संभावना के कारण निवेशक तेजी वाले बाजार में और गिरावट वाले बाजार में दोनों ही में मुनाफा कमा सकते हैं।

हमारी वेबसाइट में आपको सर्वोत्तम अनुभव प्रदान करने के लिए हम कुकियों का उपयोग कर रहे हैं। अधिक पढ़ें अथवा अपनी कुकी सेटिंग को बदलें।

जोखिम की चेतावनी: आपकी पूँजी जोखिम में है। लीवरेज वाले उत्पाद सबके उपयुक्त नहीं होते हैं। कृपया हमारे जोखिम खुलासे पर विचार करें।